बुधवार, 12 जून 2013

"दिखाओ दर्द-ए-दिल हमको"

नहीं कम उम्र हैं फिर भी
निराली हैं जिदें उनकी 
किये जिद कल से बैंठे हैं 
दिखाओ दर्द-ए-दिल हमको...!
डॉ.राज सक्सेना

2 टिप्‍पणियां: