शनिवार, 18 मई 2013

हर लुटेरे का पता मालूम है हमको मगर,
हर लुटेरा कारवां के मीर से हमसाज़ है |

1 टिप्पणी: