बुधवार, 5 सितंबर 2012

हरिद्वार


                            हरिद्वार
                         - डा.राज सक्सेना
पाप मनों का हरते -  हरते, खुद का बंटा-धार हो गया |
औरों को पावन करने में , मैला हरि का द्वार हो गया |
                श्रद्धा - हीन,  पर्यटक आया,
                 कालाधन नसनस में छाया |
दान दिया मुसटण्ड सन्त को,समझा बेड़ा पार हो गया |
औरों को पावन करने में , मैला हरि का द्वार हो गया |
                ऊपर श्रद्धा कुसुम बिखरते,
                कक्षोंमें व्यभिचार सिहरते |
सड़ी परम्परा के बलबूते , धर्म यहां व्यापार  हो गया |
औरों को पावन करने में , मैला हरि का द्वार हो गया |
                ऊंचे-मन्दिर, ठाकुर द्वारे,
                सारे आश्रम,पांच सितारे |
सुरा,सुन्दरी,सत्ता-सुख का , हर आश्रम आगार हो गया |
औरों को पावन करने में , मैला हरि का द्वार हो गया |

                     सम्पर्क-हनुमानमन्दिर,खटीमा-262308
दूरसम्पर्क- 9410718777, 7579289888, 8057320999    
                       email- raajsaksena@gmail.com
                           

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें