मंगलवार, 28 अगस्त 2012


    रूप अकल्पित  |
                                    -डा.राज सक्सेना
                अन्यअकल्पित,अदभुत, अनुपम |              
                नहीं धरा की,  स्वर्गिक  हो तुम |              
केश- कज्जली, कुंचित कोने |
भ्रू- भंगिम हैं, मृग  के छौने |
दीपशिखा से जग को जगमग,
करें तुम्हारे , नयन  सलोने |
                दमके  लौंग - नासिका  की  यूं,-
                जैसे  दामिनि,  दमके  दम-दम |        
होंठ  रसीले, रस - छंदों  से |
रक्त-वर्ण, मधुरिम  कंदों  से |
दिप-दिप दमकें दंत धवल ये,-
शुभ्र हिमालय के, शिखरों से |
                चन्दन - वन  ले  आई  तन  में,
                सांस  तुम्हारी   मद्धम - मद्धम |
नहीं  ठहरती,  एक जगह  ये |
चितवन है या, तितली  जैसे |
कांप - कांप उठती है  धरती -,
अन - जाने, आंचल के ढलते |
                आनन-अंकित,  स्वेद-बिन्दु कुछ,
                हीरक-तल पर,  लगते शबनम |
मृदु - मुस्कान,स्वांस पिघलाए |
देह - धरातल , तन   गरमाए |
चाल देख,  गज-गामिनि  तेरी,
दिव्य- अप्सरा  भी,   शरमाए |
                सम्पूरित,  मदिरा-मय हो तुम-,
                मधुशाला सी, मोहक प्रियतम  |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें