मंगलवार, 8 मई 2012


 'राज'को बाल कविता पुस्तक प्रकाशन हेतु २५०००/-रु. अनुदान
     संस्कृति विभाग उत्तराखण्ड शासन द्वारा माह फरवरी में श्रेष्ट संस्कृति पुस्तक
प्रकाशन योजना के अन्तर्गत प्रकाशन हेतु अनुदान दिये जाने हेतु पाण्डुलिपियां -
आमन्त्रित की गई थीं | डा.राज सक्सेना द्वारा 'ममता बाल गंगा'की पाण्डुलिपि
डाक से संस्कृति विभाग को भेज दी गई थी | शासन द्वारा इस हेतु नियुक्त विशे-
षज्ञ साहित्यकार समिति की संस्तुति पर 'ममता बाल गंगा' को निर्धारित प्रति-
मानों पर खरा पाते हुये मांगी गई सम्पूर्ण धनराशि पच्चीस हजार रू.मात्र का अनु-
दान प्रदान कर दिया गया है | श्री सक्सेना को इस उपलब्धि के लिये अनेक
साहित्यकार मित्रों ने बधाई दी है |

                                                                 (ममता सक्सेना)खटीमा |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें