शनिवार, 21 अप्रैल 2012

तुलसी की चौपाई हो ?

            
     डा.राज सक्सेना                            सम्पर्क-धनवर्षा,हनुमान मन्दिर,
(डा.राज किशोर सक्सेना)                                               खटीमा-262308 (उ.ख.)
पूर्व परियोजना निदेशक,न.वि.अभिकरण,पिथौरागढ                   फोन-05943252777
,पूर्व अधिशासी अधिकारी,मसूरी,                                      मोबा.- 9410718777,8057320999
पूर्व सहा.नगर आयुक्त नगर निगम देहरादून
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------       
              तुलसी की चौपाई हो ?
सतसैया का दोहा हो या,  तुलसी  की चौपाई हो ?
इन्द्र-लोक से सीधे चलकर  , आई मदिर रूबाई हो ?
      केश कज्जली, रंग कुन्दन सा,
      चन्दन जैसी   गंध   लिये |
           देवलोक    से     पोर-पोर में,
           भर    लाई   क्या  छंद प्रिये |
मंद सुगन्धित पुरवाई की, मस्त-मस्त अंगड़ाई हो  ?
सतसैया का दोहा हो या,  तुलसी  की चौपाई हो ?
      रक्त-कपोल, नासिका शुक सी,
      अधर पगे मधु से लगते हैं |
           क्षण-क्षण मुस्कानों से पूरित,
      धवलदन्त  दिपदिप करते हैं |
माखन हो या मधु का गोला ,मिश्री की बन आई  हो ?
सतसैया का दोहा हो या,  तुलसी  की चौपाई हो ?
      देह कलश  से बरस    रही है, 
          यौवन   की   रसधार    प्रिये  |
      पुष्प - लता सी  स्वर्ण-देह में,
          घुंघरू   सी   झनकार   प्रिये |
देवलोक का सारा वैभव ,  सजा देह  पर  लाई हो ?
सतसैया का दोहा हो या,    तुलसी की चौपाई हो ?
            अहा !  सुन्दरी आई हो   तुम,
        धरती पर  नव-छन्द लिए |
            महक रहा  जो  मधुर गंध  से,
            अमृत-घट  निज  संग  लिए |
सप्त-लोक के सप्त-सुरों की , सतरंगी  -  शहनाई हो ?
सतसैया का दोहा हो या,    तुलसी की चौपाई हो ?




            




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें