गुरुवार, 22 मार्च 2012

तुमसे हिन्दी का मान बढा |


        डा.राज सक्सेना                            सम्पर्क-धनवर्षा,हनुमान मन्दिर,
 (डा.राज किशोर सक्सेना)                                               खटीमा-262308 (उ.ख.)
पूर्व जिला परियोजना निदेशक,न.वि.अभिकरण, पिथौरागढ,              फोन-05943252777
पूर्व अधिशासी अधिकारी,मसूरी,                                         मोबा.- 9410718777
पूर्व सहा.नगर आयुक्त नगर निगम देहरादून                                                          -8057320999
________________________________________________________________________________
   
             तुमसे हिन्दी का मान बढा |
                           -डा.राज सक्सेना
               हो शोध विधा के श्रुत लेखक ,
 हर एक विधा अनुगामी  हो |
               है प्रेम तुम्हारा  हिन्दी  पर ,
तुम हिन्दी के अनुरागी  हो |
               कविता पर रखते श्रेष्ठ  पकड़ ,
               हर भाव उकेरा   शब्दों   में |
               दर्शन से   ले  श्रंगार तलक ,
               रख दिया शब्द से अर्थों   में |
               स्वान्तःसुखाय लिखते फिरभी,
जनहित-हिताय हो जाता  है |
               जो भी लिखते हो तुम मन से,
प्रतिमान स्वंय  हो जाता  है |
               कल्पना रखी है   रचना   में,
               पर सच का साथ न छोड़ा  है |
               दे कालजयी   रचनाओं   को,        
               संस्कृति से  नाता   जोड़ा  है |
               हंसों में रहकर   'ह'सं-राज,
'रि'पुदमन रहे तुम हिन्दी के |
               तुम 'सिंह' सरीखे  तेजवान,
मस्तक पर चमके हिन्दी के |
               हिन्दी कुलगौरव हो, 'पाल'   प्रिय,
               तुमसे हिन्दी का मान   बना |
               अतुलित रचनाएं पाकर   के ,
               हिन्दी लेखन सम्मान   बना |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें