सोमवार, 5 मार्च 2012

सरस्वती-वन्दना


  सरस्वती-वन्दना   -राज सक्सेना                                      
लेखनी को शारदे मां , नित  नवल   विस्तार दे |
शस्य-श्यामल सौम्यता, हिन्दी -  मनन हितसार दे |
      घर  बने  श्रुति  ज्ञान मन्दिर,वेदिका आंगन   बने |
      उठ जाय दृग जिस ओर भी,नवसृष्टि का सावन बने |
शुभ्र-सम्मत,शीर्षमय शत - श्रेष्ठ - हिन्दी  प्यार दे |
शस्य-श्यामल सौम्यता, हिन्दी - मनन हितसार दे |
      दूरगामी , दृष्टिमय - चिन्तन-, सभी   को ज्ञात हो |
      एक  अविरल और  अनुपम , सर्जना - संज्ञात हो |
सूर्य़ - कोटि  सम्प्रभः ,   हिन्दी - सृजन सम्भार दे |
शस्य-श्यामल  सौम्यता, हिन्दी - मनन हितसार दे |
      राष्ट्र-भाषा    हम  सभी के , मन - हृदय  बहती  रहे |
      यदि  कभी भटके ,  सतत -सद्-मार्ग  को कहती रहे |
नित्य निर्मल नव-सृजित , हिन्दी - प्रबल संसार दे |
शस्य-श्यामल सौम्यता, हिन्दी -  मनन हितसार दे |

                   मातृ-भूमि वन्दना -राज सक्सेना
            भरत-भूमि,भव-भूति  प्रखण्ड |
            उन्नत, उज्ज्वल, भारतखण्ड |
सकल-समन्वित,श्रमशुचिताम, शीर्ष-सुशोभित,श्रंग-शताम |
विरल-वनस्पति, विश्रुतवैभव,  पावन,पुण्य-प्रसून,शिवाम |
            हरित-हिमालय, हिमनद-खण्ड |
            उन्नत, उज्ज्वल, भारतखण्ड |
नासिक्, मथुरा,   पंच-प्रयाग् ,भक्ति-भरित,भव-भूमिप्रभाग |
अन्न-रत्न आपूरित आंगन,   तृप्त -  तराई,   तुष्ट्-तड़ाग |
            तपोनिष्ठ ,तपभूमि ,  प्रचण्ड |
            उन्नत, उज्ज्वल, भारतखण्ड |
सर्व-सुलभ, श्रुत-श्रेष्ठ  विहार,  केरल,   कर्नाटक,   हरिद्वार |
परम-प्रतिष्ठित, चतुष्धाम्-मय,  द्वादश- ज्योर्तिलिंग,    प्रसार |
            धीर, धवल-ध्वज, धराप्रखण्ड |
            उन्नत, उज्ज्वल, भारतखण्ड |
शौर्य, सत्य, शुचिता-संवास ,सर्वधर्म,  समुदाय  समास |
पावन-प्रेम,   परस्पर-पूरित,  मूल सहित,श्रमशील प्रवास |
           भ्रातृभाव, भवभक्ति  अखण्ड |
           उन्नत, उज्ज्वल, भारतखण्ड |

                            धनवर्षा,हनुमानमन्दिर,खटीमा-262308
                                         मो-09410718777
                                            -08057320999


|





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें