शुक्रवार, 2 मार्च 2012


    क्रान्ति-उदघोष
                               - डा.राज सक्सेना
लेखनी में अग्नि भर कर ,प्रज्जवलित कविता उगल |
देश  ने  तुझको  पुकारा  - युद्ध  में  कवि-वर निकल |
               ये शिखण्डी कब न जाने ,
               भेंट कर दें  देश     को |
               पीढियां रह जायं  तकती ,
               शून्य से    अवशेष  को |
लौह सम दीवार  में ढल ,हो  खड़ा   आगे  अटल |
देश  ने तुझको  पुकारा  - युद्ध  में  कवि-वर निकल |
                मौन है  नेतृत्व अब,वह -
                कर रहा  है  अतिक्रमण |
                ढक लिया चहुंओर उसने ,
                एक  कलुषित  आवरण |
दे नया नेतृत्व  हम  को, तुष्ट  हो जन मन विकल |
देश  ने तुझको  पुकारा  - युद्ध  में  कवि-वर निकल |
                रूप  निर्मल  शारदे  का ,
                अब बदल  निर्मम  बना |
                रूप   दुर्गा   का   उसे  दे,-
          न्याय   का  सरगम बना |
गीत में, संगीत मे  रख ,  धार   खांडे  सी  विरल |
देश ने तुझको  पुकारा  - युद्ध  में  कवि-वर निकल |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें