सोमवार, 6 फ़रवरी 2012

हैरान कर देंगे


     हैरान  कर देंगे
                  -डा.राज सक्सेना
मतों के दान के बदले,जहर प्रतिदान कर देंगे |
कोई जीते कोई हारे, हमें   हैरान  कर  देंगे |
जो हारेंगे वे भरपाई,  करेंगे खूब  जनता से,
जो जीतेंगे वसूली का , खुला मैदान कर देंगे |
करेंगे क्षेत्र को विकसित,ये कहते हैं हमेशा सब,
जहां मौका मिला,परिवार का उत्थान कर देंगे |
कहा तो है करेंगे, देश उन्नत हम सदा पहले,
प्रथम घर-द्वार दस मंजिल यही शैतान कर देंगे |
किया वादा गरीबी को,  मिटाने का मिटा देंगे,
गरीबों को मिटा कर,देश का कल्याण कर देंगे |
दिखाने को मचाते शोर कितना रोज़ संसद में,
मचाने लूट ये मिलकर,नया कुछ प्लान कर देंगे|
ये गाते भोर में गाने,   बहुत से देशभक्ति के,
फंसे जो गांठ का पूरा, उसे हलकान कर देंगे |
कहां अपनी कहां सबकी ये इज़्ज़त मानते कब हैं,
लगे मौका तो भारत की ये गिरवीं शान कर देंगे |
कमाने के लिये रूपया,न छोड़ें ये कसर  बाकी,
मिले जो रोकड़ा नीलाम, हिदुस्तान  कर  देंगे |
कहां तक'राज'गिनवाएं,गुणों की खान हैं नेता,
ये अपना पेट भरने को,शहर वीरान कर  देंगे |
       

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें