सोमवार, 13 जून 2011

ramdev bnam mnmohn

                       राम देव बनाम मनमोहन
                                            - राज सक्सेना
जनपथ ने भरदी हवा, मनमोहन हो क्रुद्ध |
दिग्गी मुख ले लड़ रहे राम देव से युद्ध |
राम देव से युद्ध , पुलिसिया लट्ठ बजाते,
कर कायर का काम, नीचता उचित बताते |
कहे`राज कविराय`, अरे डायर    के     नाती,
पुलिसकमिश्नर गुप्ता तुझको शर्म न आती |

भ्रष्टों की सरकार क्यों,      लाये   काले  नोट |
राष्ट्र कर्म में लग रहा,  दुष्ट जनों को खोट |
दुष्टजनों को खोट,   बहाने    नित्य     बनाते |
सुप्रीमकोर्ट के हुक्मों को भी धता    बताते |
कहे`राज कविराय`, मॉल सब जो भी खाया,
कैसे वापस लायं, इन्ही ने जमा       कराया |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें