बुधवार, 25 मई 2011

suraj ghr jata

सूरज जब घर जाता 
-raj saxena 
दिन की भाग दौड़ से थक कर,
सूरज    जब     घर      जाता /
चंदा  लेकर   बहुत      सितारे,
नभ  में  नित - नित     आता /

आँख  मिचौली   क्यूँ होती ये,
समझ   न    मैं   यह     पाता /
माँ-पापा     समझ  न    पाते,
भैया    चुप         रह      जाता /

पकड़  में   मेरी      दादा-दादी ,
एक   दिवस    जब        आये / 
मैंने      अपने     प्रश्न  सामने ,
उनके        सब         दोहराए /

सुनकर      दादा-दादी     बोले,
कारण    बहुत      सरल     है /
सूरज   को  घर  भेजा   जाता,
फिर    वो    आता    कल    है /

अगर  नहीं  जायेगा  घर   तो,
कल        कैसे           आएगा /
इसी    तरह  आते-जाते    ही ,
सन-डे     फिर           आएगा /

 dhan varsha , hanuman mndir,
khatima-262308(uttrakhand)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें