बुधवार, 25 मई 2011

dm-dmaak dm kre madari

डम-डमाक, डम करे मदारी 
                           - राज सक्सेना 

डम-डमाक, डम करे मदारी,
बन्दर          चाल    दिखाए /
कंधे पर  रख  कर के  लाठी ,
विदा       कराने          जाए /

देख-देख   बन्दर    राजा को,
बंदरिया                मुस्काए /
सजी-धजी   ढेरों  गहनों   से,
अपनी    कमर        हिलाए /

जब बन्दर कहता चलने को,
नखरे   बहुत          दिखाए  /
हाथ जोड़ता    बन्दर उसके,
तब    राजी   हो          जाये  /

ठुमक ठुमक चल पड़ी बंदरिया ,
जब      ससुरे    में      आये  /
डाल शीश  पर एक    ओढनी  ,
घूंघट     में     छुप        जाए  /

  धनवर्षा, हनुमान मन्दिर,
खटीमा-262308 (उ.ख.)
  मो- 09410718777

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें