बुधवार, 1 जून 2011

घड़ी-घड़ी हो आरती, क्षण-क्षण चढ़ें प्रसून,
बौने सिंहासन चढ़े,  दिल्ली,  मुम्बई,    दून |

जग भर में उपलब्ध सब, मन में करें विचार |
बौने मिल कर   कर   रहे ,  संविधान  तैयार  |

किसी देश का हो गया , यदि   बौना    संघर्ष |
कैसे सम्भव हो सके,    समयबद्ध    उत्कर्ष |

बौनापन पर्याय है,राजनीति   का        आज |
जनहित के विपरीत ही, होते हैं जन-  काज |

कुछ बौनों ने कर दिया, जब बौना साहित्य |
विदा तभी से हो गया, भाषा का   लालित्य |  

हिंदी अब हिंगलिश बने, बौने करें प्रयास |
रोमन में हिंदी लिखें, बिना व्याकरण खास |

हिंदी कौशल्या बनी, इंग्लिश कैकेयी रूप |
बौने दशरथ रच रहे, नये-नये अति-रूप |

बौनों के साहित्य के, बौने बनें प्रधान |
हिंदी के उत्कर्ष का, है नाटक  श्रीमान |

हिंदी हाथी सी बनी, बौनों का संग छोड़ |
दुनिया भर में छा गयी, मंथर गति से दौड़ |
                      धनवर्षा, हनुमान मन्दिर,
                      खटीमा-262308
                         मो-                                                                                                                                                 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें